अंधेरगर्दी

आम आदमी का दर्द ......

26 Posts

343 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4181 postid : 49

सहयोग : कहीं देखा है ऐसा .......

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Helping hands

!
!
!
!
!
!
!
!
!

!
!
!
!
!
!
!
!

image001



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 3.71 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

seema के द्वारा
January 28, 2011

mai ishwar se prarthna karungi ki har wo vyakti jo smoking karta hai aap ka lekh jarur padhe aur dekhe aap ki taraf se ye shayad ek prayash hai jagrukta failane ka ab se mai bhi apne aas paas is baat ka khyal rakhungi ki kahi koi bachchha aisa to nahi kar raha hai kyuki bachche to bhole hote hai jo dekhte hai sochte hai ki sahi hai .

    deepak pandey के द्वारा
    January 31, 2011

    सीमा जी मैंने धुम्रपान तब छोड़ा जब अपने भतीजे को धुम्रपान करते देख लिया . तभी मई उसे समझाने की हिम्मत कर सका . अब देखते है इस प्रयास के क्या फल निकलते है . प्रितिक्रिया के लिए धन्याद..

nishamittal के द्वारा
January 26, 2011

सच मेरा तो हृदय दहल गया दृश्य देख कर.क्या ये ही हमारा भविष्य है?

    deepak pandey के द्वारा
    January 27, 2011

    बच्चे तो कच्चे घड़े होते है . जैसा घर में देखेंगे वैसा ही तो करेंगे. भविष्य की नींव तो वर्तमान से ही तो निर्धारित होती है..

Alka Gupta के द्वारा
January 25, 2011

देखकर बड़ा आश्चर्य हुआ……इसीलिए तो कहा जाता है बच्चे जैसा देखते हैं वैसा ही करते हैं अगर अभी सही रास्ता नहीं दिखाया तो कहीं ऐसा न हो कि बाद में पश्चाताप करना पड़े……!

    deepak pandey के द्वारा
    January 27, 2011

    अलका जी अगर हम चाहते है की ऐसा हमारे बच्चो के साथ न हो तो पहले सुधर हमें खुद में करना होगा . बाकि ये तस्वीर कितनो की आंखे खोलने के लिए काफी है. टिप्पणी के लिए धन्यवाद्.

abodhbaalak के द्वारा
January 25, 2011

सच में जो आपने दिखाया वो पहले नहीं देखा था… :) येही होगा अगर हम अपने बच्चों … http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    deepak pandey के द्वारा
    January 25, 2011

    चलिए बहुत दिनों बाद ही सही आपने दर्शन तो दिए…………..

January 24, 2011

वाकई में दीपक भाई, आजतक तो नहीं देखा था, पर आपने दिखा दिया.

    deepak pandey के द्वारा
    January 25, 2011

    जब मैंने देखा तो मई भौंचक्का रह गया ……..

rajkamal के द्वारा
January 24, 2011

बच्चे मन के सच्चे ….. बाप पर पुट पिता पर घोड़ा , ज्यादा नही तो थोड़ा …… बेटियां भी किसी से कम नही …

    deepak pandey के द्वारा
    January 25, 2011

    मई दुकान में खड़ा था लड़के ने दुकानदर को बोला सिगरेट देदो . मैंने बोला इतने छोटे हो सिगरेट पीते हो तो वो बोला ये छोटे भाई के लिए है मई तो चिलम पीता हूँ.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran